मुहब्बत बुरी है Muhabbat Buri Hai Lyrics In Hindi

मुहब्बत बुरी है Muhabbat Buri Hai Lyrics In Hindi

Muhabbat Buri Hai Lyrics In Hindi, Sung By Amanat Ali, Written By Amanat Ali & Music Is Given By Amanat Ali. Featuring Adnan Siddiqui & Zara Peerzada. Check Out Song Lyrics And Video.

🎧 Song Credits:
Song Title: Muhabbat Buri Hai
Singer: Amanat Ali
Featuring: Adnan Siddiqui & Zara Peerzada
Lyrics & Composition: Amanat Ali
Music: Ahsan Pervaiz Mehdi
Director: Haroon Habib
Mix & Master: Afzal Hussain
Music Label: SUFISCORE

MUHABBAT BURI HAI LYRICS IN HINDI

मुहब्बत बुरी है, बुरी है मुहब्बत
कहे जा रहे हैं किये जा रहें हैं
मुहब्बत बुरी है, बुरी है मुहब्बत
कहे जा रहे हैं किये जा रहें हैं

ये है ज़हर मीठा ये मीठा ज़हर है
कहे जा रहे हैं पिए जा रहें हैं
मुहब्बत बुरी है, बुरी है मुहब्बत
कहे जा रहे हैं किये जा रहें हैं

ज़मानें के दुःख दर्द ग़म हमको देकर
ना पूछा कभी हाल साहिब ने मेरा
ज़मानें के दुःख दर्द ग़म हमको देकर
ना पूछा कभी हाल साहिब ने मेरा

मेरे चाक दामन दामन चाक मेरे
किये जा रहें हैं सीए जा रहें हैं

मुहब्बत बुरी है, बुरी है मुहब्बत
कहे जा रहे हैं किये जा रहें हैं

ये झंझट उन्ही का फसे भी हैं खुद ही
न रोके रुके हैं तो कैसे गिले हैं
ये झंझट उन्ही का फसे भी हैं खुद ही
न रोके रुके हैं तो कैसे गिले हैं

शिकायत मुसलसल मुसलसल शिकायत
किये जा रहें है जिए जा रहे है
मुहब्बत बुरी है, बुरी है मुहब्बत
कहे जा रहे हैं किये जा रहें हैं

मैंने खाना बना कर वो बैठे हैं घर को
करेंगे तरक कैसे आदत बुरी को
मैंने खाना बना कर वो बैठे हैं घर को
करेंगे तरक कैसे आदत बुरी को

तसल्ली वो दिल को वो दिल को तसल्ली
दिए जा रहें हैं पिये जा रहे हैं
मुहब्बत बुरी है, बुरी है मुहब्बत
कहे जा रहे हैं किये जा रहें हैं

ये है ज़हर मीठा ये मीठा ज़हर है
कहे जा रहे हैं पिये जा रहे हैं
मुहब्बत बुरी है, बुरी है मुहब्बत
कहे जा रहे हैं किये जा रहें हैं
मुहब्बत बुरी है, बुरी है मुहब्बत
कहे जा रहे हैं किये जा रहें हैं

VIDEO OF MUHABBAT BURI HAI SONG :


MUHABBAT BURI HAI LYRICS IN ENGLISH

Muhabbat Buri Hai, Buri Hai Muhabbat
Kahe Jaa Rahein Hain Kiye Jaa Rahein Hain
Muhabbat Buri Hai, Buri Hai Muhabbat
Kahe Jaa Rahein Hain Kiye Jaa Rahein Hain

Yeh Hai Zeher Meetha Yeh Meetha Zeher Hai
Kahe Jaa Rahein Hain Piye Jaa Rahein Hain
Muhabbat Buri Hai, Buri Hai Muhabbat
Kahe Jaa Rahein Hain Kiye Jaa Rahein Hain

Zamaane Ke Dukh Dard Gham Humko Dekar
Na Pucha Kabhi Haal Saahib Ne Mera
Zamaane Ke Dukh Dard Gham Humko Dekar
Na Pucha Kabhi Haal Saahib Ne Mera

Mere Chaak Daaman Daaman Chaak Mere
Kiye Jaa Rahein Hain Siye Jaa Rahein Hain
Muhabbat Buri Hai, Buri Hai Muhabbat
Kahe Jaa Rahein Hain Kiye Jaa Rahein Hain

Yeh Jhanjhat Unhi Ka Phase Bhi Hain Khud Hi
Na Roke Ruke Hain To Kaise Gile Hain
Yeh Jhanjhat Unhi Ka Phase Bhi Hain Khud Hi
Na Roke Ruke Hain To Kaise Gile Hain

Shikayat Musalsal Musalsal Shikayat
Kiye Jaa Rahein Hain Jiye Jaa Rahein Hain
Muhabbat Buri Hai, Buri Hai Muhabbat
Kahe Jaa Rahein Hain Kiye Jaa Rahein Hain

Main Khana Bana Kar Woh Baithe Hain Ghar Ko
Karenge Tarak Kaise Aadat Buri Ko
Main Khana Bana Kar Woh Baithe Hain Ghar Ko
Karenge Tarak Kaise Aadat Buri Ko

Tasalli Woh Dil Ko Woh Dil Ko Tasalli
Diye Jaa Rahein Hain Piye Jaa Rahein Hain
Muhabbat Buri Hai, Buri Hai Muhabbat
Kahe Jaa Rahein Hain Kiye Jaa Rahein Hain

Yeh Hai Zeher Meetha Yeh Meetha Zeher Hai
Kahe Jaa Rahein Hain Piye Jaa Rahein Hain
Muhabbat Buri Hai, Buri Hai Muhabbat
Kahe Jaa Rahein Hain Kiye Jaa Rahein Hain
Muhabbat Buri Hai, Buri Hai Muhabbat
Kahe Jaa Rahein Hain Kiye Jaa Rahein Hain!