ये रात अटक गयी Ye Raat Atak Gayi Lyrics In Hindi

ये रात अटक गयी Ye Raat Atak Gayi Lyrics In Hindi

Ye Raat Atak Gayi Lyrics In Hindi, Sung By Gaurav Bhatt, Lyrics Are Written By Hiren Pandya. While Its Music Is Given By Gaurav Bhatt.

🎧 Song Credits:
Song Title: Ye Raat Atak Gayi
Cast: Gaurrav Gaur, Charvi Dutta & Gaurav Bhatt
Singer: Gaurav Bhatt
Lyrics: Hiren Pandya
Music Composer: Gaurav Bhatt
Producer: Gaurav Bhatt
Director: Satvik Bhatt
Director Of Photography: Satvik Bhatt & Yogesh Sharma

YE RAAT ATAK GAYI LYRICS IN HINDI

ये रात अटक गयी
ज़ुल्फ़ों में उलझ गयी
ये रात अटक गयी
ज़ुल्फ़ों में उलझ गयी

हँसी तेरी खनकियों
फलक तलक महक गयी
हँसी तेरी खनकियों
फलक तलक महक गयी

ना जाने दिल कहां भटक गया
ये रात अटक गयी
ज़ुल्फ़ों में उलझ गयी

ये बालियां जो सुना रहीं हैं
छनक छनक के राग एक जुड़ा
ये माई के प्याले पिला रही हैं
तेरी नज़र की तिरछी ये अदा

तड़प तड़प के धड़कने
कितने राज़ कह गयी
तड़प तड़प के धड़कने
कितने राज़ कह गयी

ना जाने दिल कहां भटक गया
ये रात अटक गयी
ज़ुल्फ़ों में उलझ गयी

लबों पे ठहरी जो शबनमी हैं
लम्हों की प्यास हैं बुझा रही
ये हलकी हलकी शरारतें हैं
दिलों में आग हैं जला रही

ये मखमली गलतियां
संभल संभल के हो रही
ये मखमली गलतियां
संभल संभल के हो रही

ना जाने दिल कहां भटक गया
ये रात अटक गयी
ज़ुल्फ़ों में उलझ गयी..!

VIDEO OF YE RAAT ATAK GAYI SONG :


YE RAAT ATAK GAYI LYRICS IN ENGLISH

Ye Raat Atak Gayi
Zulfon Mein Ulajh Gayi
Ye Raat Atak Gayi
Zulfon Mein Ulajh Gayi

Hansi Teri Khankiyon
Falak Talak Mehek Gayi
Hansi Teri Khankiyon
Falak Talak Mehek Gayi

Na Jaane Dil Kahaan Bhatak Gaya
Ye Raat Atak Gayi
Zulfon Mein Ulajh Gayi

Ye Baaliyaan Jo Suna Rahin Hain
Chanak Chanak Ke Raag Ek Juda
Ye Mai Ke Pyaale Pila Rahi Hain
Teri Nazar Ki Tirchi Yeh Adaa

Tadap Tadap Ke Dhadkane
Kitne Raaz Keh Gayi
Tadap Tadap Ke Dhadkane
Kitne Raaz Keh Gayi

Na Jaane Dil Kahaan Bhatak Gaya
Ye Raat Atak Gayi
Zulfon Mein Ulajh Gayi

Labon Pe Thehri Jo Shabnami Hain
Lamhon Ki Pyaas Hain Bujha Rahi
Yeh Halki Halki Shararatein Hain
Dilon Mein Aag Hain Jala Rahi

Yeh Makhmali Galtiyaan
Sambhal Sambhal Ke Ho Rahin
Yeh Makhmali Galtiyaan
Sambhal Sambhal Ke Ho Rahin

Na Jaane Dil Kahaan Bhatak Gaya
Ye Raat Atak Gayi
Zulfon Mein Ulajh Gayi..!